रावण संहिता के तांत्रिक उपाय

tantrik   April 14, 2019   Comments Off on रावण संहिता के तांत्रिक उपाय

रावण संहिता के तांत्रिक उपाय

असली प्राचीन रावण संहिता के तांत्रिक उपाय – रावण अब तक का एक ऐसा नाम बन गया है, जिसकी छवि को लोग नकारात्मक ही समझते है। पर जिन्हें रावण के अस्तित्व का पूर्ण ज्ञान है वो यह भी जानते है कि रावण काफी बुद्धिमान, बलशाली, कुशल राजनीतिज्ञ, महापराक्रमी होने के साथ-साथ शास्त्रों के अच्छे ज्ञाता थे। रावण एक विद्वान पंडित था। जिसने रावण संहिता की रचना की। इसी रावण संहिता मे कई ऐसे तांत्रिक उपायों के बारे मे उल्लेख है, जिन्हें जानकार आप हैरान हो जाएंगे।

रावण संहिता के तांत्रिक उपाय

रावण संहिता के तांत्रिक उपाय

यदि आप माँ लक्ष्मी की कृपा चाहते है, तो इस उपाय को किसी भी शुक्रवार के दिन कर सकते हैं। करना यह है कि आप पहले तो सवा सौ ग्राम मिश्री और इतना ही साबुत बासमती चावल ले ले। अब दोनों को एक सफ़ेद रंग के रुमाल मे बांध दे। ऐसा करते हुए आप माँ लक्ष्मी से अपने घर मे निवास करने की प्रार्थना करें। इतना करने के बाद रुमाल से बनी उस पोटली को बहते जल मे कही प्र्वाहित कर आयें।

यदि आपको रावण संहिता पढ़ने का मौका मिले तो इसमे आपको कुछ खास तांत्रिक तिलक का जिक्र मिलेगा। जिसे लगाने वाले व्यक्ति मे कमाल की वशीकरण शक्ति पैदा होती है। यह तिलक तैयार करने के कई अलग-अलग तरीके बताए गए हैं। जैसा कि सफेद आंकड़े (अकवन) को सबसे पहले छाया में सुखा लें और इसके बाद उसे सफेद गाय के दूध में मिलाकर पीस लें। इससे एक लेप जैसा तैयार हो जाएगा। फिर उसका तिलक करके आप जिसके सामने जाएंगे वो व्यक्ति आपसे आकर्षित हो जाएगा। इसकी मदद से समाज में आपका एक अलग ही वर्चस्व स्थापित हो जाएगा।

तिलक तैयार करने का दूसरा तरीका है जिसमे आप दुर्वा घास की ज़रूरत पड़ेगी। शास्त्रों मे इस घास के चमत्कार का काफी वर्णन हुआ है। तो आपको करना यह है कि सफेद गाय के दूध मे सफेद दुर्वा घास का पीसकर उसका लेप बना ले व अब इसका तिलक करें। इसके अलावा यदि आप बिल्वपत्र व बिजौरा नींबू को बकरी के दूध के साथ मिलाकर इसका तिलक करते है तो इससे भी आपका आकर्षण काफी बढ़ता है।  इसे देखने वाले लोगों का ध्यान आपकी ओर आकर्षित होता है।

ऐसा बहुत बार काफी लोगों के साथ होता है कि ना चाहते हुए भी व्यक्ति को वो काम करना पड़ता है जिसे वो बिलकुल पसंद नहीं करता। ऐसे मे आप एक कपूर और एक फूल वाली लौंग ले। इसके बाद दोनों को एक साथ जला दे। फिर इससे बनी राख को एक कागज़ मे डाल उसकी पुड़िया बना ले। अब 2-3 दिन तक थोड़ी-थोड़ी मात्रा मे इसका सेवन करें। ऐसा करके आप अपनी इच्छा के विरुद्ध काम करने से बच जाएंगे।

रावण संहिता के धन प्राप्ति के उपाय

माँ लक्ष्मी की कृपा पाने का यह उपाय भी आप कर सकते है। यह एक मंत्र विधि है, जिसके करने से धन प्राप्ति के मार्ग मे आने वाली रुकावट दूर हो जाती है। मंत्र है: ऊँ सरस्वती ईश्वरी भगवती माता क्रां क्लीं, श्रीं श्रीं मम धनं देहि फट् स्वाहा। हर रोज़ आप बताए मंत्र का 108 बार जप करें।

रावण संहिता मे धनवान बनने के लिए कई उपाय बताए गए है। जैसे की यह एक और मंत्र विधि हम आपको बता रहें है। मंत्र: “ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं महालक्ष्मी, महासरस्वती ममगृहे आगच्छ-आगच्छ ह्रीं नम:”। यह उपाय दीपावली की मध्यरात्रि मे करें। सबसे पहले तो एक साफ आसन पर बैठ जाएँ।

फिर अष्टगंध की एक थाली पर कुमकुम से बताए मंत्र को लिख दे। ध्यान दे की मंत्र जप के लिए रुद्राक्ष या कमल गट्टे की माला आप ले सकते है। फिर 108 बार मंत्र का जप करें।  ज्यादा से ज्यादा बार मंत्र जप करके आप इसे सिद्ध कर सकते हैं। ऐसा करके आप माँ लक्ष्मी की कृपा पा सकते हैं।

रावण संहिता के स्त्री वशीकरण टोटके

अब हम आपको एक ऐसा उपाय बता रहें हैं जिसकी मदद से आप कर्ज की समस्या से निजात पा सकते हैं। यह उपाय आपको एक महीने तक लगातार करना होगा। करना यह है कि आपको रोज एक मंत्र का 1000 बार जप करना होगा। मंत्र है: “ओम क्लीं ह्रीं ऐं ओं श्रीं महा यक्षिण्ये सर्वैश्वर्यप्रदात्र नमः॥ इमिमन्त्रस्य च जप सहस्त्रस् च सम्मितम्। कुर्यात् बिल्वसमारुढो मासमात्रमतन्द्रितः”। एक महीने का समय काल पूरा होते ही आप ब्राह्मणों और कुंवारी कन्याओं को भोजन करवाए। ऐसा करके कर्ज की दिक्कत समाप्त हो जाएगी।

आप यह जानकार हैरान होंगे की रावण संहिता मे इसका भी जिक्र है कि कैसे कोई व्यक्ति किसी स्थान पर गड़ा धन प्राप्त कर सकता है। सबसे पहले तो आप एक मंत्र जान ले, मंत्र है: “ऊँ नमो विघ्नविनाशाय निधि दर्शन कुरु कुरु स्वाहा”। आपको इस मंत्र का 10,000 बार जाप करना होगा व भी किसी शुभ दिन। ऐसा करने से मंत्र सिद्ध हो जाएगा। पर आपको पूर्ण विश्वास के साथ ऐसा करना होगा। मंत्र सिद्ध होने के बाद जिस जगह  धन गड़ा हुआ है या आपको जिस जगह संदेह है की वहाँ धन हो सकता है। वहाँ धतुरे के बीज, गंधक, हलाहल, उल्लू की विष्ठा, मैनसिल, सफेद घुघुंची और शिरीष वृक्ष का पंचांग बराबर मात्रा में लें ले और सरसों के तेल में पका लें। अब इन सामग्री से संदेह वाली जगह पर धूप-दिया दिखा दे। बताए मंत्र का जाप हजारों की संख्या मे करके आप उस स्थान से negative energy को खतम कर सकेंगे। इन सबके बाद वहाँ गड़ा धन  दिखाई देगा।

रावण संहिता से वशीकरण मंत्र

एक अन्य मंत्र विधि का यदि आप प्रयोग करते हैं तो जीवन भर आपको पैसों की समस्या नहीं पड़ेगी। मंत्र है: “ऊँ यक्षाय कुबेराय वैश्रवाणाय, धन धन्याधिपतये धन धान्य समृद्धि मे देहि दापय स्वाहा”। 3 महीने तक आप इस मंत्र का जप करे और जप के समय अपने पास धनलक्ष्मी कौड़ी को रखे। तीन महीने पूरे होने पर आप इस धनलक्ष्मी कौड़ी को उस जगह रख दे जहां आप पैसे रखते है। आप जल्द ही इसके अच्छे रिज़ल्ट को देख पाएंगे।

तो देखा आपने रावण संहिता मे धन कमाने से जुड़े कितने सारे उपाय बताए गए है। उम्मीद करते है रावण संहिता के बताए तमाम उपायों मे से आपको अपने लिए ज़रूर कोई उचित व कारगर उपाय मिल जाएगा। जिसकी मदद से आप अपने जीवन से जुड़ी समस्या से निजात पा सकते है।

असली प्राचीन रावण संहिता के तांत्रिक उपाय से कोई भी कार्य किया जा सकता है और रावण संहिता से वशीकरण भी कर सकते है| किसी भी उपाय को प्रयोग में लेने से पहले जरूर तांत्रिक गुरु जी से संपर्क करे|